विटामिन D की कमी के 5 लक्षण, जिन्हें कभी न करें अनदेखा

0
106
शरीर के विकास के लिए विटामिन्स और मिनरल्स काफी जरूरी है। जब शरीर में विटामिन डी की कमी होने लगती है तो वह कई संकेत देने लगता है। यह विटामिन हमारे लिए काफी जरूरी है। आप दूध पीने से परहेज करते हैं और सही मात्रा में धूप भी नहीं लेते तो शरीर में कैल्शियम के साथ-साथ विटामिन डी की कमी हो सकती है। यह काफी गंभीर समस्या है, जिससे हमारा स्वास्थ्य बिगड़ भी सकता है। विटामिन डी का हमारे शरीर में काफी महत्तवपूर्ण रोल है। इसकी कमी होने से हड्डियां और दांत कमजोर हो सकते है। विटामिन डी की कमी होने के लक्षण इस प्रकार है।

विटामिन डी की कमी के लक्षण

1. कमजोर इम्युन सिस्टम

विटामिन डी जीन फंक्शन्स और प्रक्रियाओं को सामान्य रूप में नियंत्रित करता है, जिससे हमारा शरीर स्वस्थ बना रहता है।

2. हड्डी और मांसपेशि‍यां कमजोर

हड्ड‍ियों में दर्द व कमजोरी के साथ ही मांसपेशि‍यों में लगातार दर्द महसूस हो रहा है तो ऐसा विटामिन डी की कमी का कारण हो सकता है। विटामिन डी हड्ड‍ि‍यों दांतों और मांसपेशि‍यों के लिए भी बहुत जरूरी पोषक तत्व है।

3. तनाव

शोध में पाया गया कि जिन लोगों के शरीर विटामिन डी की कमी होती है वो हमेशा उदास और तनावग्रस्त रहते है। विटामिन डी हमारे मूड और तनाव पर काफी जरूरी भूमिका निभाता है। विटामिन डी डिप्रेशन से दूर निकालने में मदद करता है।

4. अधिक पसीना आना

शरीर में विटामिन डी की कमी होने पर अधिक पसीना आता है। यह पसीना सिर पर अत्यधिक आता है। ऐसी स्थिति में डॉक्टरी सलाह जरूर लें। बच्चों के हाथो पर अगर ज्यादा पसीना आता है तो हो सकता है कि उनमें विटामिन डी की कमी हो। इसको अनदेखा न करें।

5. चिकित्सक क्षमता में देरी

बार-बार इंफैक्शन होना भी विटामिन डी की कमी का ही संकेत है। दरअसल, हमारे इम्युन सिस्टम यानी प्रतिरक्षा प्रणाली किसी भी घाव के संक्रमण से लड़ने का काम करती है। जब शरीर में विटामिन डी की कमी होती है, तो आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली समझौता कर लेती है, जिससे आपका शरीर हानिकारक बैक्टीरिया से संक्रमित हो सकता है।

विटामिन डी की कमी के कारण

-यदि आपकी त्वचा का रंग बहुत गहरा है।

-अगर आप 50 से अधिक उम्र के है।

-वजन बहुत ज्यादा होना।

-आहार में विटामिन डी-युक्त खाद्य पदार्थ शामिल न करना।

-यदि आप धूप से बहुत अधिक बचते हैं।

-अपना ज्यादा से ज्यादा समय घर में बिताना।

विटामिन डी की कमी : रोग | लक्षण | इलाज – Vitamin D3 ki kami se rog, lakshan, ilaj

विटामिन डी3 की कमी :

ये जानकर आपको आश्चर्य होगा कि आजकल बहुत सारे लोग शरीर में विटामिन डी की कमी से ग्रसित हैं. विटामिन डी का सबसे अच्छा और एकदम मुफ्त स्रोत सूरज की खुली धूप है. लोग सुबह जल्दी ऑफिस चले जाते हैं, दिन भर ऑफिस के बंद माहौल में बीता, फिर शाम ढले वापस आते हैं. हमारी लाइफस्टाइल ऐसी हो गयी है कि हमें धूप में निकलने की जरुरत ही नहीं पड़ती. इस पोस्ट में जानिए कि आपको होने वाली कई छोटी-छोटी स्वास्थ्य समस्याओं का कारण असल में विटामिन डी की कमी हो सकता है.

विटामिन डी की कमी के लक्षण :

– अगर आपको टेंशन, डिप्रेशन की समस्या है या आप बुझे-बुझे से रहते हैं, किसी काम में मन नहीं लगता तो आपमें विटामिन डी3 की कमी हो सकती है. खुली धूप में रहने से रक्त में सेरोटोनिन हार्मोन बनता है, जिससे मूड अच्छा होता है.

– आपको थकान ज्यादा लगती है. बोन फ्रैक्चर, मांसपेशियों में खिंचाव, जोड़ों में दर्द, हड्डी का दर्द जैसे पीठ दर्द आदि होता है. विटामिन डी3 की कमी से महिलाओं में बाल झड़ने की समस्या भी सकती है.

– आपको पसीना बहुत आता है. शरीर का तापमान भी करीब 98.6 डिग्री के आसपास बना रहता है.

– आप अक्सर बीमार रहते हैं. वायरस और बैक्टीरियल रोग जल्दी ठीक नहीं होते जैसे निमोनिया, ठंड लगना, ब्रोंकाइटिस आदि.

– चोट, सर्जरी, इन्फेक्शन की वजह से होने वाले घाव ठीक होने में ज्यादा समय लगता है.

– आपका ब्लड प्रेशर और ब्लड शुगर लेवल हाई बना रहता है. हाई ब्लड प्रेशर से हार्ट की बीमारी, हार्ट अटैक आदि हो जाता है और हाई शुगर लेवल से डायबिटीज हो सकता है.

विटामिन डी3 की कमी से होने वाले रोग :

– विटामिन डी की कमी से होने वाला मुख्य रोग रिकेट्स है. रिकेट्स रोग में बोन टिश्यू सही तरह बन नहीं पाते और हड्डियाँ कमजोर हो जाती है. जिससे शारीरिक अंग टेढ़े-मेढ़े हो सकते हैं व शरीर के अस्थि-पंजर, पोस्चर खराब हो जाता है.

– विटामिन डी3 हमारे शरीर में कैल्शियम के अवशोषण व रक्त में कैल्शियम का सही स्तर बनाये रखने के लिए अतिआवश्यक है, जिससे की हड्डियाँ मजबूत बनी रहे.

– विटामिन डी3 की कमी से हृदय की बीमारी, कमजोर रोग प्रतिरोधक क्षमता, बच्चों में गंभीर अस्थमा, जोड़ों में दर्द, हाथ-पैर दर्द, मांशपेशियों की कमजोरी, मल्टिपल सिरोसिस, एक्जिमा, थकान, डायबिटीज, डेमेंशिया, डिप्रेशन, मोटापा, कैंसर, टीबी, जैसे रोग भी हो सकते हैं.

स्वस्थ व्यक्ति में विटामिन डी का स्तर :

विटामिन डी की कमी को पता करने के लिए 25-hydroxy vitamin D blood test किया जाता है. एक सामान्य आदमी के ब्लड में विटामिन डी का स्तर 30 नैनोग्राम/मिलीलीटर से 50 नैनोग्राम/मिलीलीटर के बीच हो सकता है. अगर आपके खून में यह 20 नैनोग्राम/मिलीलीटर से कम पाया जाता है तो इसका मतलब आपमें विटामिन डी की बहुत कमी है.

विटामिन डी3 के स्रोत :

– जैसा कि ऊपर बताया गया है कि विटमिन डी3 का सबसे अच्छा स्रोत धूप लेना है. प्रतिदिन 15-20 मिनट धूप लेने से शरीर में विटामिन डी का सही स्तर बना रहता है.

– खाने में विटामिन डी3 के मुख्य स्रोत अंडे का पीला भाग, डेरी प्रोडक्ट जैसे दूध, मक्खन, पनीर, मछली, गाजर, कॉड लीवर आयल, सोया मिल्क, संतरे का जूस, मशरूम, विटमिन डी सप्लीमेंट्स हैं.

Vitamin D की कमी के 10 लक्षण

हमारे शरीर के विकास और हमारी सेहत के लिए विटामिन्स और मिनरल्स बेहद जरुरी है लेकिन कई लोग ये नहीं जानते कि इनकी कमी होने के कारण या Deficiency होने के कारण शरीर में किस तरह के लक्षण दिखाई देते है । एेसा ही एक विटामिन है विटामिन डी जो हमारे स्वास्थ्य के लिए अति महत्वपूर्ण है । विटामिन डी हमारे शरीर को कई रोगों से निजात दिलाने में मदद करता है जैसे हृदय रोग, और बैक्टीरियल या वायरल संक्रमण आदि। विटामिन डी हमारी इम्युन सिस्टम को मजबूत बनाने में मदद करने के साथ- साथ मांसपेशियों को मजबूत, दांत, और हड्डियों के निर्माण के लिए महत्वपूर्ण है ।

विटामिन डी की कमी होने के लक्षण इस प्रकार है।

– मांसपेशियों और हड्डियों की कमजोरी

विटामिन डी हड्डियों, मांसपेशियों और दांतों के लिए बेहद जरुरी है । शरीर की कमजोर हड्डियां , दांत या मांसपेशियां इस बात का संकेत देते है कि आप के शरीर में विटामिन डी की कमी है ।

– उदास रहना

शोधकर्ताओं ने अपने शोध में पाया कि जिन महिलाओं के शरीर विटामिन डी की कमी होती है वो हमेशा उदास रहने के साथ -साथ तनाव में रहती है ।

– मसूड़ों संबंधी बीमारी

विटामिन डी की कमी के कारण मसूड़ों संबंधी बीमारियां होने का खतरा पैदा है जाता है जैसे मसूड़ों में सूजन, लाल होना, और मसूड़ों से खून बहना आदि।

– हाई ब्लड प्रेशर

विटामिन डी आपके दिल के लिए बहुत जरुरी है , शरीर में विटामिन डी की कमी होने के कारण आपका ब्लड प्रेशर बढ़ सकता है।

– थकावट या एनर्जी की कमी होना

विटामिन डी की कमी होने के कारण शरीर में एनर्जी लेवल कम हो जाता है और सारा दिन थकावट महसूस होने के साथ-साथ कोई भी काम करने को मन नहीं करता।

– सहन शक्ति की कमी

अध्ययनों में पाया गया है कि एथलीटों में विटामिन डी की कमी होने के कारण उनके शरीर का एनर्जी लेवल कम होने के साथ-साथ वो सही ढंग से परफॉर्म नहीं कर पाते ।

– मोटापा

मोटापा बढ़ने के साथ ही शरीर में विटामिन-डी का स्तर कम होता जाता है । जो लोग मोटापे जैसी बीमारी से ग्रस्त है उन्हें विटामिन डी की कमी को पूरा करने के साथ-साथ मोटापे को बी कम करने काप्रयास करना चाहिए।

– सिर में पसीना आना

सिर में अत्यधिक पसीना आना विटामिन डी की कमी होने का संकेत है।

– एलर्जी

विटामिन डी की पर्याप्त मात्रा शरीर को किसी भी एलर्जी से बचाने में मदद करती है लेकिन एक अध्ययन में 6000 लोगों को शामिल किया गया और जिनके शरीर में विटामिन डी की कमी थी उन्हें एलर्जी होने का खतरा ज्यादा था।

– कमर में दर्द रहना

विटामिन डी की कमी होने के कारण कमर में दर्द रहता है।

क्या आप दूध पीने से परहेज करते हैं और सही मात्रा में धूप भी नहीं लेते ? तो आपके शरीर में कैल्शि‍यम के साथ-साथ विटामिन डी की कमी हो सकती है। यदि आप पूर्णत: शाकाहारी हैं, तो य‍ह आपके लिए और भी गंभीर विषय है, क्योंकि विटामिन डी की पूर्ति के लिए आपके पास सीमित विकल्प ही मौजूद हैं और इसकी कमी गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं को जन्म दे सकती है। जानिए इन 5 बीमारियों के बारे में, जो विटामिन डी की कमी से होती है –

विटामिन डी की कमी के 5 लक्षण, आपको जरूर जानना चाहि‍ए…

1 हड्डी और मांसपेशि‍यां कमजोर – यदि आप हड्ड‍ियों में दर्द व कमजोरी के साथ ही मांसपेशि‍यों में लगातार दर्द महसूस कर रहे हैं, तो यह विटामिन डी की कमी के कारण हो सकता है। विटामिन डी हड्ड‍ि‍यों के लिए अति आवश्यक होने के साथ ही दांतों और मांसपेशि‍यों के लिए भी बहुत जरूरी पोषक तत्व है।

2 उच्च रक्तचाप – अगर आपके शरीर में विटामिन डी की कमी हो रही है, तो इसका असर आपके ब्लडप्रेशर यानि रक्तचाप पर पड़ सकता है। इसकी कमी से अक्सर उच्च रक्तचाप कर समस्या पैदा होती है।

3 तनाव एवं उदासी – खास तौर से महिलाओं में विटामिन डी की कमी से तनाव की समस्या पैदा हो जाती है और इसके कारण वे लगातार उदासी महसूस करती हैं। महिलाओं में विटामिन डी की आवश्यकता अधि‍क होती है।

4 मूड पर असर – शरीर में विटामिन डी की कमी का सीधा असर आपके मूड पर पड़ता है। इसकी कमी से शरीर में सेरोटोनिन हार्मोन के निर्माण पर असर पड़ता है जो आपके बदलते मूड के लिए जिम्मेदार हो सकता है।

5 आलस और थकान – अगर आप अपने अंदर ऊर्जा की महसूस करते हैं और लगातार थकान व आलस से भरा महसूस करते हैं, तो शरीर में विटामिन डी के स्तर की जांच करवाइए। विटामिन डी की कमी के कारण भी हो सकता है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here